Sunday, 20 August 2017

नमन



मोहब्बत लिख के भेजा था वो चिट्ठी लौट आई है 
डाकिये ने लिखा है अब इस पते पर कोई नहीं रहता.
-----
दिल है बर्बाद मगर खुश हूँ इस बर्बादी पर
उसका कब्ज़ा है मेरे दिल की इस आबादी पर.
------
हुश्न वालों से कायम है आधी दुनिया 
बाकी आधी को इसी हुश्न ने बर्बाद किया.
----
मैं मोहब्बत हूँ सूली पे चढ़ा दो हमको
कम से कम इतना तो चाहत की सज़ा दो हमको.
-----
इश्क का रोग  है तो जान लेकर जायेगा
जब तलक जियेंगे हमें उम्र भर सताएगा.
---
बहुत दिनों से किसी ने नहीं दिया धोखा
इन दिनों यार की कमी बहुत सताती है.
---
है ज़हरीली जुबान और आस्तीन में खंजर है
जिस तरफ देखिये दुनियां में यही मंजर है.
---
ए मेरा मुल्क है इसकी इबादत रोज करता हूँ  
इसी पर जान देता हूँ, इसी से प्यार करता हूँ.
-----
तुझे हक है की तु बेशक इसे दीवानगी कह ले 
वतन पर जान देने को मेरी बेहूदगी कह ले.
----

आसमान रो रहा है हर तरफ मातम ही मातम है
हुकुमत कह रही है ए बच्चो के मरने का मौसम है.

------

मैंने आवाज़ दी खुशियों को चले आये गम 
तब ए जाना की हमदम है ख़ुशी और ए गम.
नमन 

1 comment:

  1. Greetings from the UK.

    Thank you. Love love, Andrew. Bye.

    ReplyDelete