Monday, 18 July 2016

खिलाफत

--  खिलाफत  --

मैं धार्मिक हूँ
इसीलिए संगठित धर्म के खिलाफ हूँ...
मैं हिन्दू हूँ
इसलिए उनके खिलाफ हूँ
जो चला रहे हैं हिंदुत्व की दुकाने...
मैं ब्राह्मण हूँ
पर ब्राह्मणवाद के खिलाफ हूँ
जातिवाद के खिलाफ हूँ
खुद अपने खिलाफ हूँ...
मैं भारतीय हूँ
भारतीय होने का सार्थक अभिमान भी है मुझे
पर मैं उनके खिलाफ हूँ
जो राष्ट्रवाद के नाम पर
खुद अपने खिलाफ रच रहे हैं षड्यंत्र ....
'नमन'

No comments:

Post a Comment