Sunday, 17 July 2016

-- हम गर दिल लगाएं ---

        --  हम गर दिल लगाएं ---

हम गर दिल लगाएं तो क्या कीजियेगा 
अगर पास आएं तो क्या कीजियेगा ?

हम आँखें लड़ायें तो क्या कीजियेगा 
मोहब्बत जताएं तो क्या कीजियेगा ?

हम गर मुस्कराएं तो क्या कीजियेगा 
जो बाँहों में आएं तो क्या कीजियेगा ?

हम गर रूठ जाएँ तो क्या कीजियेगा 
न मानें मनाएं तो क्या कीजियेगा ?

हम आंसू बहाएं तो क्या कीजियेगा 
बगावत पे आएं तो क्या कीजियेगा ?
                                                         'नमन' 

No comments:

Post a Comment