Thursday, 18 September 2014

हिंदी चीनी भाई भाई.…

हिंदी चीनी भाई भाई.… 


आज-कल मेरी घरवाली मुझसे बहुत नाराज़ है. कहती है इस दुनिया में आपके दो ही दुश्मन हैं एक ठू मोदीजी और दूसरी मैं. दोनों के पीछे हाथ धो के पड़े रहते हो. ई तो अच्छा है की मोदी जी महिला नहीं हैं वरना मेरे घर में गृह कलह का २००% खतरा था.

आजकल घर में ढोकला जादा बनने लगा है. पड़ोस की दूकान से चल कर खाखरा सीधे मेरे घर आ जाता है. मैं घरवाली से कहता हूँ की ये बीमारी की जड़ है तो वो मानती ही नहीं. पहले जब कभी मैं ढोकला, खाखरा, कचौरी आदि की मांग करता था तो बीवी चिल्लाती थी की इससे दिल की बीमारी हो सकती है.

अब वह वैसे ही बदल गई है जैसे १५० दिन में मोदीजी बदल गए हैं. पहले मोदी जी दहाड़ते थे और हमें लगता था की प्रधानमंत्री बनते ही नेहरु जी की तरह लाहौर में तिरंगा फहरा देंगे. पकिस्तान का नामोनिशान मिटा देंगे. अब कई दर्ज़न सैनिकों की शहादत पर शाल, साडी वगैरह का लेन देन हो रहा है. मोदीजी के लंगोटिया मित्र वैदिक जी और आतंकी हाफ़िज़ सईद भारत पाक संबंधों पर गले मिल रहे हैं.

मोदीजी जब मुख्यमंत्री थे तो तो उनका बड़ा मन था की चीन को सबक सिखाएं. सो प्रधानमंत्री बनते ही चीनी का रेट बढ़ा दिया की चीनी आम आदमी की पहुँच के बाहर ही रहे. अब चीनी राष्ट्रपति शी जिन पिंग को सबक सिखाने के लिए अहमदाबाद बुला लिया है. उधर सीमा पर चीनी सैनिक भारतीय सीमा में घुसे पड़े हैं और इधर चीनी राष्ट्रपति अहमदाबाद तक घुस आया है. मोदीजी कितने प्यार से उन्हें झुला रहे हैं. हिंदी चीनी भाई-भाई का नारा लग रहा है. मोदी जी पंडित नेहरु का पूरा अनुकरण करने की कोशिश में लगे हैं. लगता है पंडित नेहरु युग लौट आया है.

नेहरुजी पर याद आया की नेहरु को धोखा देकर चीन ने हम पर आक्रमण कर दिया था. अब इस बार क्या होगा यह मोदीजी से बेहतर कौन जानता है ???? मैकमोहन लाईन का क्या होगा???  भक्त नोस्त्रदामस की भविष्यवाणी से बहुत प्रभावित हैं. उसमे लिखा है की चीनी सेना गंगा तक पहुंच जायेगी?? मैं घबराया हुआ हूँ उधर बड़े भाई चंचल जी खटिया डारे पड़े हैं, ऊ इस उम्र में अब लडाई पर तो जायेंगे नहीं, सो उनको मोदी जी कहाँ शिफ्ट करेंगे? हम तो इधर महाराष्ट्र में डेरा डारे पड़े हैं... बड़े भाई सरोजजी छत्तीसगढ़ में पड़े हैं सो सुरक्षित हैं.. पर काशी पर खतरा है.... जय बाबा भोलेनाथ!!!!!

‘नमन’ 

No comments:

Post a Comment