Monday, 8 September 2014

सत्ता

उसकी 
लपलपाती हुयी जीभ से 
लगातार टपकती है लार
कभी-कभी उसका विष
बाहर आ जाता है....


कश्मीर से कन्याकुमारी तक
पूरे भारत पर है 

उसकी निगाह
गुजरात से आसाम तक
नीला पड़ रहा है भारत
कुछ लोग कहते हैं

यह नाग-पुर प्रभाव है....


कई साल पहले
प्रेम को 

डुबा दिया गया था
अरब सागर में
अब 

विष को विष से मारने की
नयी अवधारणा पर काम शुरू है
प्रयोगशालाओं में...


नदियों- पहाड़ों
पठारों - रेगिस्तानों
किसी को नहीं बक्शा है
घृणा और द्वेष के

इन वंशजों ने .....
'नमन'

No comments:

Post a Comment