Friday, 21 September 2012

खामोश लब



                    खामोश लब

लब हैं खामोश और आँखों में कुछ नमी सी है
lab hain khamosh aur aankhon me kuchh nami si hai
उसके  जाने के  बाद  जिंदगी  नहीं  सी है|
uske jane ke baad jindagi nahin si hai.

मय है, महफ़िल है और साकी भी खूबसूरत है
may hai, mahfil hai aur saaki bhi khubsurat hai
फिर भी उसके बिना लगता है कुछ कमीं सी है|
fir bhi uske bina lagta hai kuchh kami si hai.

उसका दामन मेरे हाथों से जब से फिसला है
uska daaman mere hatho se jab se fisla hai
सारी दुनिया ही हमें लगती अजनबी सी है|
sari duniya hi hame lagti ajanabi si hai.

करार आये भी दिल को तो वो आये कैसे
karar aaye bhi dil ko to wo aaye kaise
वो नहीं है तो मेरे दिल में बे-कली  सी है|
wo nahi hain to mere dile men be-kali si hai.

यार को मेरे 'नमन' मुझपे भरोसा ही नहीं
yaar ko mere naman mujhpe bharosa hi nahi
मेरी चाहत भी उसे लगती दुश्मनी सी है|  'नमन' 
 meri chahat bhi use lagti dushmani se hai.   'naman'    

1 comment:

  1. waah bahut hi sundar rachna lagi aapki yah ...

    ReplyDelete